अगर आप PART TIME HOMEBASED WORK में INTERESTED है तो इस वेबसाइट के सबसे निचे दिए गए फॉर्म को जरुर FILL-UP कर दे|

पहले लुभावने ऑफर फिर ठगी

जयपुर। कभी करोड़ों की लॉटरी की ई-मेल तो कभी सोने के सिक्कों का मैसेज तो कभी घर पर चिठ्ठी  के जरिए लाखों की दौलत की वसीयत। आपको भी अगर ऐसे ही इनामों के लुभावने ऑफर्स मिल रहे हैं तो सावधान हो जाइए क्योंकि ये इनाम दरअसल लोगों को ठगने के लिए किए जा रहे हैं।  इनमें से ज्यादातर लोगों को पहले ब्रिटेन और नाइजीरिया के नंबरों से फोन कॉल आते हैं और फिर उन्हें भारतीय नंबरों से कुछ लड़कियों के माध्यम से टोकन अमाउंट के नाम पर पैसा जमा कराने को कहा जाता है।
अभी तक ऐसी ठगी के जितने मामले सामने आए हैं उनमें से 95 फीसदी में जिन बैंकों के खातों में पैसा जमा करवाया गया, वे बैंक भी भारतीय ही थे।  ऑन लाइन लॉटरी की ई-मेल्स भी एक नहीं अलग-अलग देशों से की जा रही हैं। दिल्ली और मुम्बई की साइबर क्राइम ब्रांच को ऐसी सैंकड़ों शिकायतें हर महीने मिलती हैं जिनमें ऑनलाइन लॉटरी के नाम पर लोगों को लाखों का चूना लगा दिया गया। कुछ लोग ऐसे भी हैं जो ऑनलाइन लॉटरी के चक्कर में 90 लाख रुपए तक गंवा चुके हैं। हमें ये भी जानकारी मिली कि ऑनलाइन और एसएमएस से सिर्फ लॉटरी ही नहीं कई और तरीकों से भी लोगों को चूना लगाया जा रहा है। कभी विदेशों में इनाम जीतने का झांसा दिया जाता है तो कभी ऑनलाइन लॉटरी जीतने का तो कभी विदेशों में जॉब ऑफर्स के नाम पर भी लोगों को अपने जाल में फंसाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय मंच पर सुरक्षा एजेंसियां इसे 420 नहीं, बल्कि 419 क्राइम के नाम से जानती हैं। नाइजीरियन नागरिकों के गैंग इस काम में सबसे ज्यादा सक्रिय हैं।कैसे होती है ठगी की शुरुआत नाइजीरियन गैंग के लोग ई-मेल और मोबाइल डेटाबेस को खरीदकर लोगों को ई-मेल और एसएमएस करते हैं। 100 में से एक-दो लोग इसका जवाब देते हैं और फिर गैंग के लोग उनसे टैक्स या प्रोसेसिंग चार्ज के नाम पर कुछ पैसा खाते में डलवाने को कहते हैं। शुरूआत में विदेशी खाता बताया जाता है और फिर शख्स को उसकी सुविधा के नाम पर भारतीय खाता नंबर दे दिया जाता है। नाइजीरियन्स यहां आकर नॉर्थ ईस्ट की लड़कियों को अपने जाल में फंसाते हैं। उन्हें कमीशन देने के नाम पर उनके और उनके रिश्तेदारों के खातों का इस्तेमाल करते हैं ताकि जो लोग ई-मेल ऑफर्स से उनके झांसे में आ जाएं उनका पैसा इन इंडियन खातों में जमा करवाया जा सके। एक बार पैसा जमा होते ही उसके एक-डेढ़ घंटे में एटीएम से निकाल लिया जाता है। ऐसे मामलों की जांच में सामने आया है कि खाता तो किसी भारतीय शख्स के नाम पर है लेकिन पैसा निकाल रहे हैं विदेशी लोग। ये लोग पैसे को तुरंत मनी ट्रांसफर या हवाला के जरिए विदेशों में भेजे देते हैं।


-------------------------------

-
Mr. Abhishek
www.vic2job.blogspot.com
My facebook link : www.facebook.com/abhi612
My Twitter link : www.twitter.com/vic2dataentry
My Youtube videos : www.youtube.com/user/vic2dataentry